No comments yet

इन अवगुणों से महर्षि वशिष्ठ की तपस्या भंग हुई

श्रम और निष्ठा के साथ साधक अध्यात्म के मार्ग पर बढ़ता है और उन्नति पाता है। लेकिन ऐसे भी कुछ अवगुण हैं जिनकी वजह से क्षणों में साधक अपनी तपस्या को नष्ट कर बैठता है. ऐसीही बात महर्षि वशिष्ठ के साथ घटी। जिन अवगुणों की वहज से महर्षि वशिष्ठ की तपस्या नष्ट हुई थी, उन बातों का हम सब भी अपने जीवन में सामना करते हैं। ये अवगुण कौनसे थे और इनके साथ कैसे निपटा जाए, यहाँ जानें। जीवन परिवर्तन करने वाली ध्यान साधनाओ को सीखने के लिए हमारे साप्ताहिक शिवयोग फोरम के कार्यक्रमों से जुड़े – www.shivyogforum.com

Post a comment