No comments yet

परमात्मा को प्राप्त करने के दशमद्वार हैं। पहला कौन सा है?

अध्यात्म में कहा जाता है के भगवान हमारे भीतर हैं। जो साधनाएं, जो तपस्या साधक करता है, इन सबका यही एक उद्देश्य होता है के अपने भीतर जो भगवान हैं उसे जान सकें। यहाँ तक पहुँचने के लिए साधक को दशमद्वार बताए गए हैं। इसमें से सबसे पहला दरवाज़ा कौनसा है? जीवन परिवर्तन करने वाली ध्यान साधनाओ को सीखने के लिए हमारे साप्ताहिक शिवयोग फोरम के कार्यक्रमों से जुड़े – www.shivyogforum.com

Post a comment