इस एक बात को बदलने से आपके ग्रहों की स्थिति बदल जाती है

शिवयोग में हमेशा कहा जाता है के आप ही अपने भाग्य के विधाता हैं। जो ज्योतिष के ज्ञानी हैं शायद इस बात पर कहें के हमारा भाग्य, ग्रहों की स्थिति से निर्धारित, पहले से ही लिखा हुआ है – हमारे हाथ की लकीरों में और हमारी जनम पत्रि में। लेकिन...

Continue reading

हर बार आप शिविर करते हैं, आपका भाग्य बदल जाता है

जब बच्चा जनम लेता है तो सबसे पहले ज्ञानी पंडित उसके लिए जनम पत्रि तैयार करते हैं। इस जनम पत्रि में बताया होता है के बच्चे का जीवन कैसा होगा, उसे किन चीज़ों की प्रप्ति होगी या क्या कमी होगी उसके जीवन में। लेकिन शिव योग कहता है के हर...

Continue reading

You Are God In The Making

God had many names. Depending upon your religion, you will have a name for god. So does that mean that there are many gods? What is that which we call god and how are we connected to it? What is the true nature of our self? Watch here to find...

Continue reading

घर का मंदिर कैसा होना चाहिए और साधना से पहले क्या करना चाहिए ?

जब हमारे पूर्वजों ने इस धरती पर भगवान के उपासना-गृह बनाए तो वह एक समझ के साथ बनाए थे। उस क्षत्र की शक्ति ऐसी हो जाती थी के जो वहाँ जाता था उसे लाभ प्राप्त होता था। आज कल मंदिर या उपासना-गृह अक्सर जाना नहीं होता। तो क्यों न अपने...

Continue reading

The Nature Of Our True Self

In Shiv Yog, sadhaks learn about the nature of their self. Where the rest of the world is only aware of the physical body, sadhaks learn about all the five bodies. Clearly, the self is more complex than most people understand it to be. The great realized masters, gained more...

Continue reading

अपने कर्मों को रिलीज़ करते – करते नए न्यूरोपाथवे बनाएं

शिव योग के साधक साधना द्वारे बहुत शक्ति प्राप्त कर लेते हैं। इस शक्ति से उनके जीवन में जो वे चाहें वही होने लगता है। लेकिन अगर मन में शुद्धि न हो, तो इस शक्ति से हमारे जीवन में क्या बनने लगेगा? अवधूत शिवानंद जी यहाँ पर शुद्धिकरण के महत्व...

Continue reading

Every Individual Has Two Identities

Unlike animals, man has the right to choose and to consciously determine the course of his life. Every human being has two identities. Which one an individual chooses to identify with determine their health, the quality of their life and whether they grow and evolve in life or not. Learn...

Continue reading

प्रतिदिन बाहर दुनिया में कर्म करने के बाद, ये करें

ध्यान बाहर की तरफ खींचने के लिए दुनिया में अनेक बातें और घटनाएँ तो होती ही रहती हैं। उनमे उलझकर जनमों जन्मों तक मनुष्य भटकता ही रहता है। ज़रुरत तो बहुत होती है आराम की, शांति की, लेकिन उसे भी बाहर ढूंडते ढूंडते मनुष्य उसी तरह भटकता रहता है। अवधूत...

Continue reading

गुरु नानक जी ने हमें क्या सिखाया ?

गुरु नानक जी ने सिख धर्म की शुरुवात की। उन्होनें जो उपदेश दिए, उनका पालन आज भी होता है। जब गुरु नानक जी ने ‘अकाल पुरुष’ की बात की तो वे किसकी बात कर रहे थे? सिख धर्म में जो मंत्र उपचारण होता है,उसका मतलब क्या है? ये बातें यहाँ...

Continue reading

नमोकार मंत्र के अर्थ को अपने जीवन में उतारें

जैन धर्म ने हमें एक बहुत सुन्दर मंत्र दिया है जिसमें हम सारे ज्ञानी पुरुषों का नमन करते हैं। लेकिन अगर हम आज के समय में अखबार खोलें या टीवी पर देखें तो ऐसे कुछ साधु जैसे लोग होते हैं जिनका आचरण देखकर लोगों के मन में दुर्भाव जागता है।...

Continue reading

At What Level Does Shiv Yog Healing Occur?

Sadhaks diagnosed with diseases labelled ‘incurable’ by doctors find their health improving with Shiv Yog Healing. How does this happen? At what level does healing work? And how is healing able to achieve something that is beyond our understanding? For learning the life-transforming meditations of Shiv Yog, join our weekly...

Continue reading

जब गुरु नानक कैलाश पर्वत गए

मनुष्य के मन में कभी कभार लालच जैसी भावना आ जाती है। दूसरों के पास क्या है और हमारे पास क्या नहीं, इसमें मन अटक जाता है। इसी बात से सम्बंधित यहाँ अवधूत शिवानंद जी गुरु नानक जी की कैलाश यात्रा का एक किस्सा सुनाते हैं। जानिये गुरु नानक जी...

Continue reading